सल्ट उपचुनाव में कांग्रेस, भाजपा को वॉक-ओवर देने के मूड में नहीं !

0
167

कांग्रेस पूर्व विस अध्यक्ष जागेश्वर विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल की अध्यक्षता में बनाई चुनाव संचालन समिति

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

कांग्रेस की चुनाव संचालन समिति के ये लोग हैं सदस्य :

राज्य सभा संसद प्रदीप टम्टा, विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के उपनेता करण माहरा, विधायक हरीश धामी, पूर्व विधायक मयूख महर, रणजीत रावत, गणेश गोदियाल,मदन सिंह बिष्ट, मनोज तिवारी, महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य, ललित फर्स्वाण, प्रदेश उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप, महामंत्री विजय सारस्वत, हेमंत बगड़वाल, अल्मोडा जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे, रानीखेत जिलाध्यक्ष महेश आर्य, सल्ट ब्लॉक प्रमुख विक्रम रावत

रामनगर : भाजपा जहां सल्ट विधानसभा चुनाव में विजय को लेकर आश्वस्त नज़र आ रही है वहीं कांग्रेस किसी भी कीमत पर भाजपा को इस बार उपचुनाव में वॉकओवर देने के मूड में नहीं हैं। कांग्रेस का मानना है कि वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में जब मोदी की लहर थी उसके बावजूद भी गंगा पंचोली ने भाजपा के दांत खट्टे कर दिए थे और मात्र 2904 वोटों से वह पीछे रह गयी थी, लेकिन इस बार न मोदी की लहर है और न प्रदेश में भाजपा  द्वारा मुख्यमंत्री को अचानक बदले जाने का ही भाजपा के पास कोई जवाब ही है। लिहाज़ा पूर्व विधायक सुरेंद्र सिंह जीना के प्रति सहानुभूति की लहर के भरोसे कैसे भाजपा जीत का सपना देख रही है यह तो वही जाने लेकिन यह तय है इस बार कांग्रेस भाजपा को यहां धूल चटा देगी और आगामी 2021 के विधानसभा चुनावों के लिए अभी से खाता खोल देगी।   

कांग्रेस की इस बात में दम भी नज़र आ रहा है कांग्रेस ने इस सल्ट उपचुनाव कांग्रेस की कमान पूर्व विधान सभा अध्यक्ष व जागेश्वर विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल को इस चुनाव की कमान सौंप दी है। गोविंद सिंह कुंजवाल जहां कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता हैं वहीँ उन्हें कुशल राजनीतिज्ञ और नेतृत्व क्षमता का भी माहिर माना जाता है।  इतना ही नहीं कांग्रेस के भीतर उनका अपना सम्मान भी अलग है।  उनकी इसी क्षमता को देखते हुए कांग्रेस ने कुंजवाल की अध्यक्षता में 19 सदस्यीय चुनाव संचालन समिति का गठन कर दिया है। इतना ही नहीं इस समिति में सल्ट से टिकट के प्रबल दावेदार रहे सल्ट के ब्लॉक प्रमुख विक्रम सिंह रावत को भी रखा गया है।

प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह की हरी झंडी के बाद कांग्रेस ने समिति की घोषणा की। चुनाव संचालन समिति में कांग्रेस ने पहले के सभी राग -द्वेष को भुलाकर अपनी जीत पर ध्यान केंद्रित करते हुए पूर्व कांग्रेस के महासचिव व सूबे के मुख्यमंत्री हरीश रावत समर्थकों को अधिक तरजीह दी है। जबकि पूर्व विधायक रणजीत रावत और उनके बेटे को भी समिति में रखा गया है।क्योंकि कांग्रेस को पता है कि सल्ट का चुनाव बिना रणजीत रावत और उनके बेटे विक्रम रावत के बिना नहीं लड़ा जा सकता है। इसलिए कांग्रेस ने सारे मतभेद भुलाते हुए दोनों को ही संचालन समिति में स्थान दिया है।