• अपराधी नहीं पकड़े गए तो होगा प्रदेशव्यापी आंदोलन : कांग्रेस 

DEHRADUN : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था बुरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। सूबे में आए दिन इस प्रकार के जघन्य अपराध हो रहे हेँ और सरकारी मशीनरी हाथ पर हाथ धरे बैठी है। उन्होंने कहा सरकार इतनी संवेदनहीन हो चुकी है कि लोगों को सहायता देना तो दूर उनके आंसू तक पौ़छने को वह तैयार नहीं हैं। 

उत्तरकाशी में मासूम बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए कांग्रेस ने सरकार को सात दिन का अल्टीमेटम दिया है। यदि अपराधी न पकड़े गए तो कांग्रेस 27 अगस्त से इस मुद्दे पर सरकार के खिलाफ प्रदेश स्तर पर आंदोलन छेड़ देगी। तब तक कांग्रेस मासूम की याद में रोजाना विरोध-प्रदर्शन और श्रद्धांजलि कार्यक्रम करेगी। कांग्रेस ने बच्ची के परिजनों को दस लाख रुपये मुआवजा देने की मांग भी की है।

सोमवार को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने राजीव भवन में मीडिया से बातचीत में कहा कि मंगलवार को इस मुद्दे पर कांग्रेस राज्यपाल से मुलाकात कर ज्ञापन देगी। साथ ही मंगलवार शाम को मासूम बच्ची की याद में कैंडिल मार्च भी निकाला जाएगा। उन्होंने सरकार पर तीखे प्रहार भी किए। उन्होंने कहा कि उत्तरकाशी में मासूम बच्ची के साथ जो जधन्य अपराध हुआ है, उसने पूरी मानवता को शर्मसार कर दिया है। यह ठीक उसी तरह से है जैसे दिल्ली में निर्भया और कश्मीर में कठुवा में हुआ है।

इतनी बड़ी ह्दयविदारक घटना के बावजूद प्रदेश की सरकार ने पीड़ित परिवार को सांत्वना देने अपने एक प्रतिनिधि तक को नहीं भेजा। सभी लोग हरिद्वार में पार्टी के बडे़ नेताओं के सामने चेहरा दिखाने के लिए परेड़ करते रहे। इसी प्रकार दून में बारिश में एक ही परिवार के पांच से ज्यादा लोगों की मौत के वक्त भी सरकार का असंवेदनशील चेहरा दिखाई दिया था। तब भी सरकार के मंत्री-विधायक ने आने की जरूरत नहीं समझी। इसी ठीक सरकार की नाक के नीचे राष्ट्रीय दृष्टि बाधितार्थ संस्थान (एनआईवीएच) में दिव्यांग बच्चों के शोषण की घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।