सूबे में रव‌िवार से मंगलवार तक भारी बार‌िश की चेतावनी

नैनीताल : कुमाऊं के पर्वतीय जिलों में बारिश-ओलों का कहर शनिवार को भी जारी रहा। पिथौरागढ़ जिले के मूनाकोट विकासखंड के भंडाखोली गांव में शनिवार शाम बादल फटने से दर्जन भर मकानों में मलबा भर गया और चार मकान ध्वस्त हो गए।

गांव को जाने वाले रास्ते बह गए। गौरीहाट कस्बे में भी चार दुकानों में भी मलबा भर गया। पूरे क्षेत्र की संचार और विद्युत सेवा ठप हो गई। झूलाघाट-पिथौरागढ़ मार्ग कई स्थानों पर मलबा आने से बंद हो गया।

इस कारण दर्जनों वाहनों में सैकड़ों लोग फंसे हुए हैं। उधर, अल्मोड़ा के सल्ट तहसील के अंतर्गत गधेरे को पार करने के दौरान बह गई 14 वर्षीय किशोरी का शव शनिवार को पांच किमी दूर मलबे में दबा मिला।

राजस्व पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर परिजनों को सौंप दिया है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने रविवार से लेकर मंगलवार तक राज्य के छह जिलों नैनीताल, बागेश्वर, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग में मूसलाधार बारिश की संभावना जताई है।

गौरीहाट में बादल फटने से झूलाघाट-पिथौरागढ़ मार्ग बंद हो जाने से पिथौरागढ़ से गौरीहाट आई बारात और झूलाघाट से लौट रही तीन बारातें भी फंस गई हैं। मलबे में लोगों का राशन, कपड़े और सभी जरूरी सामान दब गया है। पानी के बहाव से बचने के लिए लोग पेड़ों पर चढ़ गए। वहां से जनहानि की सूचना नहीं है।

कनालीछीना के गुड़ौली समेत आसपास के इलाकों में शनिवार शाम हुई ओलावृष्टि से खेतों में सब्जी, फल कुछ नहीं बचा है। रातीगाड़ के पास मलबा आने से थल-मुनस्यारी रोड अपरान्ह चार से छह बजे तक बंद रही। पिथौरागढ़ में शाम को अंधड़ के साथ बारिश हुई। बेड़ीनाग तहसील के पांखू क्षेत्र में अंधड़ के दौरान एक पेड़ गिरने से मकान ध्वस्त हो गया।

हल्द्वानी में शनिवार को हुई झमाझम बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत दी और अधिकतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस कम हो गया। चंपावत जिले में 24 घंटे के भीतर सात एमएम बारिश दर्ज की गई। कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि से फल और बागवानी को नुकसान पहुंचा है।

नैनीताल में तेज आंधी से मल्लीताल स्थित राजकीय पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य एमके सिंह के सरकारी आवास की छत उड़ गई। शनिवार दिन में तेज बारिश और ओलावृष्टि से जनजीवन प्रभावित रहा। फ्लैट्स में एडीबी की पाइप लाइन फटने से नगर के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था ठप हो गई है। 24 घंटे के भीतर 23 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है।

रानीखेत तहसील के सुदूरवर्ती रैली बयाली (चमड़खान) गांव में शुक्रवार शाम एक मकान के ऊपर विशालकाय चीड़ का पेड़ गिरने से मकान क्षतिग्रस्त हो गया। हालांकि परिवार के लोग बाल-बाल बच गए। गनियाद्योली के पास लाइन में खराबी आने से चिलियानौला के लोग रात भर अंधेरे में रहे। काशीपुर, बाजपुर, रामनगर में शुक्रवार देर शाम आंधी से दर्जनों विद्युत पोल टूट गए।

काशीपुर मेें करीब 20 हजार उपभोक्ताओं को रात भर बिना बिजली के रहना पड़ा। आंधी से एक व्यक्ति का निर्माणाधीन मकान गिर गया। इसमें दबकर घर का मुखिया घायल हो गया। बाजपुर में अंधड़, से 33 केवी लाइन के दो, 11 केवी लाइन के 38 पोल, एलटी लाइन के 71 पोल क्षतिग्रस्त हो गए।