राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार  के लिए भेजा जायेगा बच्ची का नाम 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

अपने चार वर्ष के भाई की रक्षा के लिए गुलदार (तेंदुआ) से दो-दो हाथ करने वाली राखी के अदम्य साहस को देखते हुए पौड़ी जिला प्रशासन की ओर से राखी का नाम राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा। 

देहरादून । मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जनपद पौड़ी के देवकुंडाई गांव के दलवीर सिंह रावत की पुत्री, कक्षा पाँच की छात्रा 11 वर्षीय बालिका राखी द्वारा अपने चार वर्षीय भाई राघव को गुलदार के हमले से बचाते हुए घायल होने पर उनके परिजनों से फोन पर बात कर बालिका राखी के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से हर तरह की मदद का भरोसा दिया। ईलाज के लिए दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हुई बालिका राखी अब खतरे से बाहर है और उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।  

मुख्यमंत्री ने राखी के पूर्ण स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए कहा कि इस बालिका ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपने छोटे भाई को बचाया। हम अपनी बेटी राखी की वीरता पर गौरान्वित हैं। मुख्यमंत्री ने दिल्ली स्थित उत्तराखंड के अपर स्थानिक आयुक्त को बालिका राखी के परिजनों के सम्पर्क में रहते हुए हर आवश्यक उपचार व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं।

ज्ञातव्य है कि पौङी जिले के बीरोंखाल विकासखंड के देवकुंडाई गांव में शुक्रवार  को 11 साल की राखी अपने 4 साल के भाई के साथ घर आ रही थी तब एक गुलदार ने उस पर हमला कर दिया, लेकिन राखी ने गुलदार से डरने के बजाय उसका सामना किया और अपने भाई की रक्षा की।

Advertisements