बदरीनाथ हाईवे पर मार्ग चौड़ीकरण का काम के दौरान हुआ हादसा

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

गोपेश्वर (चमोली)। बदरीनाथ हाईवे पर मार्ग चौड़ीकरण के दौरान पहाड़ी से चट्टान के अचानक सड़क पर गिरने से एक इंजीनियर समेत तीन लोगों की मलवे में दबने से मौत हो गई है। उक्त घटना आज यानी शनिवार को तड़के तीन बजकर पचास मिनट के करीब हुई। चाड़ा पर काम कर रही कम्पनी के जीएम आरएस यादव का कहना है कि वह सुबह तीन बजकर पचास मिनट पर काम देखने गए थे। रोड पर जमा मलबे की सफाई की जा रही थी कि अचानक चट्टान से पत्थर आ गया। हमारे कर्मचारी वहां जेसीबी के केबिन में काम कर रहे थे वह दब गये।जिसके बाद गैस कटर से केबिन काटा गया और तीनों के शव बाहर निकाले गए। पुलिस ने तीनो के शवों को मलबे से निकाल लिया है।मृतकों में हिमांशु सिंह पुत्र किशन सिंह निवासी रांगतोली चमोली, पंकज सिंह पुत्र दरबान सिंह निवासी पदमला, देवाल चमोली तथा राकेश कुमार पुत्र हंशो निवासी थाना किहाड़ पोस्ट आफिस चिकरू चंबा हिमाचल प्रदेश शामिल हैं। चमोली के कोतवाली प्रभारी महेश लखेड़ा ने बताया कि तीनों शवों का पंचनामा भरकर जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया। हादसे के बाद यातायात कोठियालसैंण-नंदप्रयाग सड़क पर डायवर्ट किया गया है।

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार, घटना आज सुबह पांच बजे की है। चमोली में चाडे के पास बदरीनाथ हाईवे पर मार्ग चौड़ीकरण का काम चल रहा था। इसी दौरान पहाड़ी से बोल्‍डर हाईवे पर गिरने लगे। इससे वहां काम कर रहे तीन लोग मलबे में दब गए।

सूचना पर पुलिस-प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और लोगों की मदद से राहत बचाव कर कार्य शुरू किया, लेकिन तब तक मलबे में दबने से तीन लोगों की मौत हो चुकी थी। तीनों शवों को मलबे से निकाल लिया गया है। बताया जा रहा है कि मरने वाले तीन लोगों में दो जेसीबी आपरेटर हैं और एक इंजीनियर है।