सी एम पपनैं

बेंगलुरु (कर्नाटक)। हिमालय के उद्यम विकास व्यावसायिक संवर्धन हेतु उत्तराखंड के प्रबुद्ध प्रवासी जनो द्वारा गठित ‘हिमालयन रिसोरसेश एन्हासमैंट सोसाइटी’ द्वारा 12 अक्टूबर बेंगलुरु के सैंट मार्क्स होटल मे प्रायोजक सी ट्रेव्ल्स के सहयोग से दूसरा सफल कार्यक्रम ‘बिजनेस उत्तरायणी-2019 बेंगलुरु मीट’ नाम से आयोजित किया गया।

आयोजित बैठक मे सोसाइटी के एसोसिएट उत्तराखंड सांस्कृतिक परिषद बेंगलुरु तथा हिमालयन सोसियो इकोनॉमिक डभलपमैंट सोसाइटी के साथ-साथ अन्य अनेकों उत्तराखंड की प्रवासी संस्थाओ व अन्य स्थानीय व्यवसाइयों के सहयोग से आयोजित बैठक को सफल बनाने की पहल की गई।

उत्तराखंड की जानी-मानी बेंगलुरु प्रवास मे निवासरत प्रवासी विभूतियो के साथ-साथ अन्य अनेकों स्थानीय प्रबुद्ध उत्साही व्यवसायियों की आयोजित बैठक मे बड़ी भागीदारी रही।

आयोजित बैठक को संबोधित करने वाले आमंत्रित प्रमुख प्रबुद्ध जनो मे पद्ममभूषण प्रो.के एस बल्दिया, आईपीएस कमल पंत, अध्यक्ष सी हौक ग्रुप नरेंद्र सिंह लड़वाल, मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार के सलाहकार सदस्य कर्नल (डॉ) डी पी डिमरी, फिजीशियन डॉ दीपक जोशी, डॉ राजकुमार उपाध्याय, डॉ कृष्णा के वी राव, कुमेल किरमानी, बलबीर बोरा, सुरेन्द्र सिंह बिष्ट, त्रिभुवन सिंह बिष्ट, विरेंद्र सिंह बिष्ट तथा विनय ओझा मुख्य थे।

हिमालयी उद्यम विकास के संवर्धन व उत्थान पर निरंतर 2007-2008 से कार्यरत सोसाइटी हिमालयन क्षेत्रो मे पलायन रोकने के लिए एक अलग प्रकार की मुहिम, जिसमे राष्ट्रीय सहभागिता का सामूहिक प्रयास मुख्य लक्ष्य है। साथ ही व्यवसायिक सरोकारो के विकास हेतु मिलकर काम करने की सोच पर कार्यरत है, प्रबुद्ध वक्ताओ द्वारा संस्था की कार्ययोजना को सराहा गया।

प्रबुद्ध वक्ताओ ने व्यक्त किया, अवलोकन कर ज्ञात होता है, आयोजक सोसाइटी से जुड़े प्रबुद्ध उत्तराखंडियों मे विख्यात विदेशी कम्पनियो तथा भारत सरकार मे उच्च पदों पर आसीन अधिकारियों के साथ-साथ समाज से जुड़े सु-विख्यात समाजसेवी, ख्यातिप्राप्त रंगकर्मी, साहित्यकार तथा पत्रकारो के जुड़ने से सोसाइटी के महत्व, स्तर व कार्यरूप को पहचाना जा सकता है।

वक्ताओ ने व्यक्त किया, उत्तराखंड से निरंतर बढ़ते पलायन से खाली होते गांवो व जटिल पहाडी खेती-किसानी से लोगों के अलगाव को विराम देने के उद्देश्य से सोसाइटी जहां उनसे जुड़े प्रबुद्ध समाजसेवियों के बल देश-विदेश के निवेशकों को लुभाने की कोशिश कर रही है, सराहनीय व प्रभावशाली कदम है। बेंगलुरु मे आयोजित इस बैठक से सोसाइटी को आशानुकूल बल मिलेगा, बिजनेश नेटवर्क बनाने का।

वक्ताओ ने कहा, सोसाइटी के उद्देश्यनुसार वे सब मिलजुल कर बेंगलुरु प्रवास मे निवासरत मध्य हिमालय उत्तराखंड मूल के प्रबुद्ध प्रवासी उघमियों को आपस मे जोड़, भविष्य की योजना बना, औद्योगिक अवसर मिलने पर उत्तराखंड का ओद्योगिक विकास मिलजुल कर सके, इस उद्देश्य पर प्रतिबद्ध रहेंगे।

वक्ताओ द्वारा सोसाइटी की मुहिम, ‘कुछ लोग साथ जुड़ कर उत्तराखंड मे निवेश कर, संयुक्त उपक्रम स्थापित कर, नए आयाम स्थापित करे’, इस उद्देश्य को सराहा गया। उपस्थित प्रबुद्ध जनो द्वारा सारगर्भित चर्चा कर, संभावनाओ को तलाश, उद्देश्य को धरातल पर उतारने की मुहिम को प्रतिबद्धता के तहत स्वीकार किया गया।

वक्ताओ ने सटीक अंदाज मे कहा, आगामी आयोजित कार्यक्रमो मे सफल उपक्रमो पर सारगर्भित चर्चा कर, उन्हे अमल मे ला, मिलजुल कर कार्ययोजना बनाने की पहल कर उद्देश्य को कार्यरूप मे लाना होगा।

प्रबुद्ध वक्ताओ ने राय व्यक्त कर कहा, बेंगलुरु की ही तरह देश के अन्य उत्तराखंडी प्रवासी बहुल कस्बो व शहरो मे कार्यक्रम आयोजनों के माध्यम से उत्तराखंड के प्रवासी उघमियों को प्रेरित कर हिमालय के व्यवसायिक सरोकारो, स्वरोजगार व उघमिता विकास हेतु योजना बद्ध तरीके से कार्ययोजना पर सारगर्भित चर्चा कर, योजना बना, उत्तराखंड के समुचित उत्थान, संवर्धन की नींव रखने हेतु सभी प्रवासी उद्यमियों को जागृत करना नितान्त आवश्यक है, उत्तराखंड से निरंतर बढ़ते जा रहे पलायन पर अंकुश लगाने हेतु।

उत्तराखंड मे उत्पादित कृषि उत्पादों व स्थानीय अन्य उघमो मे युवाओं की रूचि बढाने। पलायन की रफ्तार पर लगाम लगाने। प्रवास मे निवासरत उत्तराखंड के प्रवासियों को उनके मूल गांवो की ओर वापसी की राह दिखाने। उत्तराखंड के जनसरोकारों के उत्थान व संवर्धन हेतु निरंतर कार्य कर, सोसाइटी के उद्देश्यो को मिलजुल कर सफल बनाने हेतु सभी वक्ताओ ने अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की।

आयोजित सफल बैठक का कुशल संचालन सोसाइटी संस्थापक नीरज बवाड़ी ने बखूबी किया।

हिमालयी उद्यम विकास के संवर्धन व उत्थान हेतु आयोजको द्वारा पहली बैठक का आयोजन 18 फरवरी 2019 को विश्व युवक केंद्र चाणक्यपुरी, नई दिल्ली मे ‘हिमालयन हाइट्स विजनेश उत्तरायणी 2019’ नाम से आयोजित की थी। उक्त आयोजित बैठक उत्तराखंड के प्रवासी युवाओ के लिए अभूतपूर्व, उत्साहवर्धक व प्रेरणादायी साबित हुई थी।

सोसाइटी का तीसरा कार्यक्रम 23 नवम्बर को फरीदाबाद मे तथा चौथा कार्यक्रम 21 दिसंबर 2019 को उत्तराखंड के मानिला मे सोसाइटी के संस्थापक नीरज बवाड़ी व उनकी पंद्रह सदस्यीय टीम तथा कुछ प्रबुद्ध विशेषज्ञयो के सानिध्य मे आयोजित करने की योजना है।
————-
cmpapnai1957@gmail.com
9871757316

Advertisements