किसी भी विषम परिस्थिति से निबटने के लिए सेना का हेलीकाप्टर तैयार 

चार गंभीर घायलों को लेकर देहरादून पहुंचा हेलीकाप्टर, हायर सेंटर भेजे गए

आपदा प्रभावित माकुडी और डिगोली गांव में बना अस्थायी हेलिपैड

दून हॉस्पिटल में आपातकालीन स्थिति से  निबटने के लिए तैयारी

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून  : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के निर्देश के बाद आपदा प्रभावित मोरी और आराकोट के इलाकों दो हेलीकॉप्टर पहुँच गए हैं जबकि एक सेना का हेलीकाप्टर भी जॉलीग्रांट हवाई अड्डे पर पहुँच चुका है।  इतना ही नहीं एक हेलीकाप्टर ने आराकोट से दो गंभीर घायलों को लेकर देहरादून पहुँच गया है। वहीं एक हेलीकाप्टर दवाओं और आपदा प्रबंधन टीम को लेकर आराकोट , मोरी पहुँच चुका है। सोमवार तड़के से चले रेस्क्यू अभियान में तीन लोगों के शव बरामद हुए। अभी तक कुल 10 लोगों के शव बरामद हो चुके हैं। इनमें सबकी शिनाख्त हो चुकी है।अभी 12 लोग लापता हैैं।   एसडीआरएफ, पुलिस, प्रशासन व आपदा प्रबंधन की 20 टीमें आराकोट क्षेत्र के आपदा प्रभावित छह गांवों में पहुंच गई है। 

]मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में अतिवर्षा की संभावनाओं के दृष्टिगत किसी भी चुनौती से निपटने के लिए सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद रखी जाय। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग के भारी वर्षा के पूर्वानुमान को देखते हुए विशेष सतर्कता की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को किसी भी प्रकार के आपदा के लिए सतर्क रहने एवं शीघ्र रिस्पाँस करने को कहा है। आपदा प्रभावितों को अनुमन्य सहायता राशि भी शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं।  

मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिये हैं कि जिला आपदा कंट्रोल रूम का भी लगातार निरीक्षण करते रहें। ड्यूटी के प्रति लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों एवं कर्मचारियों पर सख्त कार्यवाही की जाए। उन्होंने जिलाधिकारियों को आपदा के दृष्टिगत निरन्तर जनप्रतिनिधियों के सम्पर्क में रहने के भी निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर भी जनप्रतिनिधियों के फोन नम्बर की लिस्ट भी अपडेट रखी जाए, ताकि किसी भी प्रकार की घटना होने पर शीघ्र सम्पर्क किया जा सके। 

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद एसडीएम मोरी आराकोट के इंटर कॉलेज पहुँच चुके हैं वे वहां राहत और बचाव कार्यों का जायजा ले रहे हैं।  इसेक साथ ही एक हेलीकाप्टर राहत और बचाव के लिए संचार उपकरणों और रेस्क्यू के लिए रस्सियों को लेकर यहाँ से रवां हो चुका है। और दूसरा हेलीकाप्टर प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्यों के लिए रवान  हो गया है।  वहीँ प्रभावित इलाकों के लिए तीन मेडिकल टीमें भी एक अन्य हेलिकॉप्टर से प्रभावित इलाकों में पहुँच चुकी है।  वही बहरतीय वायु सेना का हेलीकाप्टर भी किसी भी आपातकालीन स्थिति से निबटने के लिए जॉली ग्रांट हवाई अड्डे पर तैयार खड़ा है , जिला उत्तरकाशी प्रशासन ने राहत एवं बचाव कार्यों के लिए माकुडी और डिगोली गांव में अस्थायी हेलिपैड बना दिया है जो प्रभावितों को लेकर तुरंत देहरादून लेकर आने वाला है।  

Advertisements