कोरोना संक्रमण नियंत्रण पर कांग्रेस का प्रलाप तो भाजपा का कांग्रेस को जवाब

1
325

भाजपा और कॉग्रेस में चरम पर पहुंची जुबानी जंग

कोरोना के बहाने दोनों दल एक दूसरे को घेरने में जुटे 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश सरकार पूरी सजगता व सतर्कता के साथ कार्य कर रहीः भगत

देहरादून । भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश सरकार पूरी सजगता व सतर्कता के साथ कार्य कर रही है और महामारी के दृष्टिगत सरकार की सभी तैयारियां पूरी हैं। उन्होंने कहा कि बिना वजह सरकार पर आरोप-प्रत्यारोप करना कांग्रेस की आदत में शामिल है।
श्री भगत ने कहा कि प्रदेश सरकार के प्रयासों का नतीजा है कि शुरू में राज्य में कोरोना महामारी की स्थिति नियंत्रित थी। मगर प्रवासियों की घर वापसी के साथ परिस्थितियां बदली हैं। उन्होंने कहा कि एक लोक कल्याणकारी राज्य में प्रवासियों की घर वापसी प्रदेश सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है। लिहाजा, राज्य सरकार अपने दायित्वों का कुशलतापूर्वक निर्वहन कर रही है।
उन्होंने कहा कि प्रवासियों की घर वापसी के साथ-साथ प्रदेश सरकार ने संक्रमण से निपटने के लिए भी अपने स्तर से पूरी तैयारियां कर रखी हैं। प्रदेश सरकार हर तरह की स्थिति से निपटने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा महामारी को लेकर तय किए गए मानकों के हिसाब से उत्तराखंड की स्थिति अन्य राज्यों से बेहतर है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता जिस प्रकार की बयानबाजी और गतिविधियां आयोजित कर रहे हैं, उससे जनता के बीच भय का माहौल पैदा हो रहा है। ऐसा आभास हो रहा है कि कांग्रेस की मंशा लोगों में दहशत फैलाकर प्रदेश में अराजकता फैलाने की है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस को ऐसी आपदा के समय में राजनीति करने से बाज आना चाहिए और एक सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभानी चाहिए। 

कोरोना महामारी पर्वतीय जनपदों में भी पैर प्रसार चुकी, सरकार इन मामलों के प्रति बनी हुई है उदासीनः प्रीतम सिंह 

देहरादून । प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय देहरादून में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक कर उत्तराखण्ड प्रदेश में कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों पर चिन्ता प्रकट की। उन्होंने यह भी कहा कि अभी तक सुरक्षित प्रदेश के पर्वतीय जनपदों में भी कोरोना महामारी अपने पैर प्रसार चुकी है तथा सरकार इन मामलों के प्रति उदासीन बनी हुई है।
उन्होंने कहा कि पर्वतीय जनपदों के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के मरीज मिलना चिन्ता का विषय है क्योंकि वहां पर न तो स्वास्थ्य सुविधायें उपलब्ध हो पा रही हैं और न ही अन्य किसी प्रकार की सहायता लोगों को मिल पा रही है। उन्होंने सभी कंाग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील की कि अपने-अपने क्षेत्रों में जरूरतमंदों की हर संभव सहायता करंे।
इसके उपरान्त प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मीडिया चेयरमैन राजीव महर्षि, महामंत्री संगठन विजय सारस्वत एवं पूर्व मंत्री अजय सिंह ने एक संयुक्त बयान जारी करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रवासी नागरिकों की वापसी पर उन्हें जिस प्रकार क्वारेंटाइन किया जा रहा है वह मात्र खानापूर्ति के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है तथा इससे महामारी की रोकथाम में किसी प्रकार की सहायता नहीं मिल पायेगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक भवनों एवं विद्यालयों में जो क्वारेंटाइन सैन्टर बनाये गये हैं उनमें सभी जगह के लोगों को एक साथ रखा ज रहा है जो कि उचित नहीं है क्योंकि गांव पहुंचने वाले लोग अलग-अलग श्रेणी के राज्यों से पहुंच रहे हैं जिनमें कुछ ग्रीन जोन से हैं तो कुछ रेड जोन व बफर जोन से भी हैं। ऐसे में सबको एक साथ क्वारेंटाइन किया जाना खतरनाक साबित हो सकता है।
कांग्रेस नेता एवं निवर्तमान मीडिया चेयरमैन राजीव महर्षि ने कहा कि इस संदर्भ में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने मुख्यमंत्री से पूर्व में भी आग्रह किया था कि ग्रामीण क्षेत्रों में निवास कर रहे लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर बाहर से आने वाले प्रवासियों के क्वारेंटाइन की व्यवस्था बेस कैम्पों में ही की जानी चाहिए तथा बेस कैम्पों में जगह की कमी होने पर जिला मुख्यालय या तहसील मुख्यालय या ब्लाक मुख्यालयों में क्वारेंटाइन सैन्टर बनाये जाने चाहिए परन्तु राज्य सरकार द्वारा ऐसा नहीं किया गया जिसका नतीजा पर्वतीय क्षेत्र एवं ग्रीन जोन में संक्रमितों की संख्या बढ़ने के तौर पर सामने है।
उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि उत्तराखण्ड राज्य पर्यटन आधारित राज्य है तथा यहां पर होटलों एवं गेस्ट हाउसों की कमी नहीं है ऐसे में जो लोग भुगतान करने की स्थिति में हैं उनके लिए राज्य सरकार को क्वारेंटाइन सैन्टर के रूप में फिक्स धनराशि पर होटलों को अधिग्रहित करना चाहिए तथा जो लोग स्वयं से भुगतान करने की स्थिति में नहीं हैं उन्हें सरकारी अतिथिगृहों में ही क्वारेंटाइन किया जाना चाहिए ताकि उनके खान-पान की व्यवस्था हो सके।