जॉली ग्रांट एयरपोर्ट विस्तारकरण पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता बोले : कांग्रेस की सोच हमेशा से विकास विरोधी रही है

0
346

उत्तराखंड के लिए देहरादून के जोलीग्रांट एयरपोर्ट का विस्तारीकरण है बहुत महत्वपूर्ण : बिपिन कैंथोला 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो
देहरादून : कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी और नेताओं का जौलीग्रांट एयरपोर्ट विस्तारीकरण योजना का विरोध करना यह साबित करता है कि इनकी सोच हमेशा से विकास विरोधी रही है। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता बिपिन कैंथोला ने कहा कि उत्तराखंड के लिए देहरादून के जोलीग्रांट एयरपोर्ट का विस्तारीकरण बहुत महत्वपूर्ण है। राज्य के विकास में इसकी अहम भूमिका तो है ही,सामरिक दृष्टि से भी यह बेहद महत्वूपर्ण है। उत्तराखंड की सीमाएं नेपाल और चीन से लगी हुई हैं। चीन के साथ ताजा विवाद के बाद इसका विस्तारीकरण होना और अधिक जरूरी हो गया है।
उन्होंने कहा कि केदारनाथ आपदा के दौरान भी यह महसूस किया गया था कि अगर देहरादून के एयरपोर्ट का पहले विस्तार किया गया होता तो, एयर लिप्टिंग के जरिए तेजी से मदद पहुंचाई जा सकती थी। कांग्रेस सरकार ने राज्य में एयर कनेक्टिविटी के लिहाज से कुछ नहीं किया। भाजपा सरकार ने आते ही सबसे पहले उत्तराखंड राज्य के छोटे शहरों को एयर कनेक्टिविटी से जोड़ने का काम तेजी से किया।
बिपिन कैंथोला ने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस और कांगेस के आला नेता जौलीग्रांट एयरपोर्ट विस्तारीकरण विरोध कर रहे हैं,उससे साफ हो गया है कि कांग्रेस के पास अब मुद्दे नहीं बचे हैं। कांग्रेस असमंजस की स्थिति में है कि क्या करें। इसके चलते ही कांग्रेस विकास के कार्यों का भी विरोध करने लगी है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में 71 प्रतिशत भू-भाग वनाच्छादित है और जब विकास कार्य होते हैं तो, जितने पेड़ों को हटाया जाता है। वन अधिनियम के अनुसार उतने ही पेड़ों का रोपण किया जाता है। उन्होंने सवाल किया कि कांग्रेस बताए कि इससे पर्यावरण को खतरा कैसे हो रहा है। बिपिन कैंथोला ने कहा कि यह बात सभी को समझनी चाहिये कि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जॉलीग्रांट एयरपोर्ट का बनना बेहद जरूरी है।
उन्होंने कहा कि अगर सीमाएं सुरक्षित होंगी, तो हमारा प्रदेश भी सुरक्षित होगा। उन्होंने अपील की कि कोई भी व्यक्ति या संगठन कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के बरगलाने में न आएँ ।उन्होंने कहा कि ये ऐसे दल हैं, जिनको केवल चर्चा में बने रहना है। ये अपने अस्तित्व को बचाने के लिए लड़ रहे हैं। ऐसे दलों को देश की रक्षा और सुरक्षा से कोई लेना-देना नहीं है। बिपिन कैंथालों ने कहा कि राष्ट्र से बढ़कर कुछ नहीं है। राष्ट्रीय सुरक्षा से देश सुरक्षति रहेगा और विकास से आगे बढ़ेगा।