नयी दिल्ली : पीएम मोदी की मौजूदगी में भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति ने मैराथन मंथन के बाद उत्तराखंड के पार्टी उम्मीदवारों के नाम पर मुहर लगा दी है। उत्तराखंड की 70 विधानसभा में से पार्टी ने 62 सीटों पर अपने उम्मीदवार तय कर दिए हैं।

भाजपा ने प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, पूर्व केंद्रीय मंत्री सतपाल महाराज और त्रिवेंद्र सिंह रावत सरीखे वरिष्ठ नेताओं को चुनाव में उतारने का निर्णय लिया है। महाराज को चौबट्टाखाल से चुनाव लड़ाने का निर्णय लिया गया है तो त्रिवेंद्र देहरादून की डोईवाला सीट से मैदान में उतरेंगे। प्रदेश के किसी भी सांसद को मैादान में न उतारने का निर्णय लेते हुए तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों बीसी खंडूरी, भगत सिंह कोश्यारी और रमेश पोखरियाल निशंक को चुनाव से बाहर रखा गया है।

सूत्रों के मुताबिक उत्तराखंड की धर्मपुर सीट समेत शेष 7 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है। राज्य इकाई के साथ मंत्रणा कर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शेष सीटों पर उम्मीदवारों के नाम को तय करेंगे।

केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में शामिल पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार सीटों का ऐलान सोमवार को किया जाएगा। मीडिया की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए पार्टी ने अगले दिन लिस्ट जारी करने का फैसला लिया है। उक्त सूत्र ने चुनाव समिति के अंदर किसी वाद—विवाद की चर्चाओं को निराधार बताया है।

केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक पीएम मोदी के पार्टी मुख्यालय पहुंचने के बाद करीब शाम सवा सात बजे शुरू हुई। पहले दौर में उत्तराखंड की सीटों पर मंथन हुआ। बैठक में पीएम मोदी के अलावा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, संगठन मंहामत्री राम लाल, सह संगठन महामंत्री शिव प्रकाश, जेपी नड्डा, श्याम जाजू, प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट और राज्य भाजपा के संगठन महामंत्री संजय शामिल हुए। करीब दो घंटे की मैराथन बैठक के बाद पार्टी ने उत्तराखंड के उम्मीदवारों के नाम को अंतिम रूप दे दिया।

उत्तराखंड और उत्तरप्रदेश  में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप दे दिया गया। पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की रविवार देर रात तक चली बैठक में उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के करीब दो सौ नामों पर सहमति बनी। इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को दोनों राज्यों के नेताओं के साथ बैठक की। बैठक करीब चार घंटे चली, जिसमें लगभग दो सौ सीटों पर सहमति बनाई गई। हालांकि, तय नामों की घोषणा सोमवार को की जाएगी।

भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक शाम सात बजे शुरू हुई। इसमें पहले दो घंटे यानी रात नौ बजे तक उत्तराखंड पर बैठक चली। इसके बाद उत्तर प्रदेश को लेकर बैठक शुरू हुई, जो रात करीब 11 बजे तक चली। सूत्रों के अनुसार, सोमवार को जो नाम घोषित किए जाएंगे, उनमें उत्तराखंड की सूची में करीब 50 नाम हो सकते हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश की सूची में पहले दो चरणों के ज्यादातर उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की जाएगी।

इसके पहले अमित शाह के आवास पर दिनभर बैठकों का दौर चला। उत्तर प्रदेश के प्रमुख नेताओं के साथ दोपहर 12 बजे बैठक शुरू हुई। इसमें केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कलराज मिश्र, ओम माथुर, सुनील बंसल, केशव प्रसाद मौर्य मौजूद रहे। शाम चार बजे तक चली बैठक में सभी सातों चरणों की प्रमुख सीटों पर चर्चा की गई। विभिन्न नेताओं के दो दर्जन से ज्यादा सगे संबंधियों के टिकट पर साफ किया गया कि संगठन की राय पर ही टिकट दिया जाए न कि किसी की सिफारिश पर।

उत्तरप्रदेश में सात चरणों में चुनाव होने से एक साथ सभी सीटों की घोषणा नहीं की जाएगी। पहली सूची में शुरुआती दो चरणों के लिए उम्मीदवार घोषित किए जाने की संभावना है। 17 जनवरी को भी चुनाव समिति की बैठक होगी, जिसमें अधिकांश नाम तय कर दिए जाएंगे तथा अंतिम सूचि जरी कर दी जाएगी ।

Advertisements