भाजपा ने कहा, प्रदेश सरकार को नसीहत देना बंद करे कांग्रेस

0
310

भाजपा के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने कहा, दुष्प्रचार करने के लिए कांग्रेस को जनता से माफी मांगनी चाहिए

उत्तराखंड में सोनिया गांधी किचन चलाने की कांग्रेस की नौटंकी औंधे मुंह गिर गईः भाजपा

देवभूमि मीडिया ब्यूरो
देहरादून। भाजपा के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के बयान ने कांग्रेस की ही पोल खोल दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में खुद कुछ करने की सोच और क्षमताएं नहीं हैं, इसलिए प्रदेश सरकार को नसीहत देना बंद करे। 
चौहान ने मीडिया को जारी विज्ञप्ति में कहा कि दुर्भाग्य है कि कांग्रेस का प्रत्येक बयान कोविड-19 के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल को तोड़ने की नसीहत देता है। कांग्रेस के नेता पहले कहते रहे कि प्रवासियों को लाने का रजिस्ट्रेशन नहीं है और अपने तथाकथित एप का प्रचार प्रसार करने में लगे रहे, लेकिन सरकार के पुख्ता इंतजाम के चलते पौने दो लाख प्रवासियों ने पंजीकरण कराया, जबकि कांग्रेस 15- 20 हजार का आंकड़ा बता रही थी। यहां भी कांग्रेस औंधे मुंह गिर गई। 
उन्होंने कहा कि अफसोसजनक स्थिति यह है कि कांग्रेस कोविड-19 महामारी के समय प्रवासी लोगों को लाने तथा ले जाने के काम को साधारण समय में होने वाले आवागमन की तरह पेश करती रही है, इतनी जिम्मेदार समझ भी नहीं दिखाई कि इस महामारी में एक स्टेंडिंग ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) तथा प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए दोनों राज्य बाध्य हैं, अर्थात जहां से प्रवासियों को आना है और जहां जाना है। इतना ही नहीं सामाजिक दूरी के मानकों के दृष्टिगत ट्रेनों एवं बसों में उनकी मानक क्षमता से कम लोग ही आ जा सकते हैं।
भाजपा नेता चौहान ने कहा कि आज पुणे महाराष्ट्र से हरिद्वार के लिए 1264 प्रवासी ट्रेन से रवाना किए गए। कांग्रेस को यह भी मालूम होना चाहिए कि पुणे पुलिस ने उत्तराखंड के प्रवासियों के ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन, मेडिकल जांच के लिए इसलिए मना कर दिया था, क्योंकि इसके लिए प्रवासियों को समूह में होने की शर्त रखी गई थी, जबकि अधिकांश उत्तराखंड प्रवासी समूह में ना होकर अलग अलग रहे हैं, इसलिए पुलिस को जांच कराने में कठिनाई हो रही थी। अधिकारियों के बहुत परिश्रम के बाद 1264 प्रवासियों को क्लीयरेंस मिल सकी और 1200 से कम पर स्पेशल ट्रेन नहीं चल सकती थी।
उन्होंने कहा कि शायद कांग्रेस को मालूम नहीं है कि हजारों लोगों को उत्तराखंड के एक जिले से दूसरे जिले में भिजवाने का काम भी उत्तराखंड सरकार अभी तक करा चुकी है तथा लगभग 25,000 प्रवासियों को भी उत्तराखंड ला चुकी है। इतना ही नहीं जिन प्रवासियों को उत्तराखंड लाया गया है, उनको घरों तक भेजने का काम भी सरकार ही कर रही है। ऐसे में परिवहन सुविधाओं बसों की कमी होना स्वाभाविक है।
भाजपा के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता चौहान ने कहा कि मुंबई, दिल्ली आदि बड़े शहरों से विशेष रेलगाड़ियों चलाने की व्यवस्था भी कराई जा रही है। फिर भी कांग्रेस को समझ नहीं आ रहा है। यहां तक कि सोनिया गांधी किचन चलाने की नौटंकी उत्तराखंड में औंधे मुंह गिर गई।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस में खुद कुछ करने की सोच और क्षमताएं नहीं हैं, इसलिए प्रदेश सरकार को नसीहत देना बंद करें। उत्तराखंड सरकार ने जिस प्रभावी तरीकों से कोविड-19 को नियंत्रित किया और राहत कार्य चला रही है, उसकी सराहना पूरे देश में हो रही है। इतना ही नहीं प्रदेश सरकार पर प्रवासियों के पुनर्वास के लिए भी कई योजनाएं तैयार कर रही है, जिस पर मंत्रिमंडल की उपसमिति तेजी से काम कर रही है।
चौहान ने बताया कि गरीब कल्याण की दृष्टि से तीन माह का कंट्रोल राशन एडवांस पांच किलो प्रति व्यक्ति, उज्ज्वला की फ्री गैस, जनधन खाता धारक महिलाओं को ₹500 प्रति माह, तीन माह की वृद्धावस्था पेंशन एवं दिव्यांग पेंशन एडवांस, किसान सम्मान निधि, बहुत सस्ती दालें तथा एक किलो दाल मुफ्त जैसी कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, शायद इसलिए कांग्रेस बौखला गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को गलत प्रचार करने के लिए उत्तराखंड की जनता से माफी मांगनी चाहिए।