देश और दुनिया को सबसे बड़ा खतरा प्रदूषण और आतंकवाद से है

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून: राष्ट्रीय स्वयं सेवक के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने कहा कि हमलोगों की आदत कुछ ऐसी हो गयी है कि जब तक जब तक संकट अपने पर नहीं आता है तब तक वह दूसरे का समझने लगते हैं । उन्होंने कहा  देश और दुनिया को सबसे बड़ा खतरा प्रदूषण और आतंकवाद से है। ग्लोबल पीस को लेकर जितनी बातें हो रही हैं, उससे ज्यादा ग्लोबल आतंकवाद भी बढ़ रहा है। आतंकवाद खत्म हो, इसके लिए चिंतन की जरूरत है। यह तभी संभव है, जब हर व्यक्ति राष्ट्र और दूसरों के संकट को अपना संकट समझ सके।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी गुरुवार को आइआरडीटी सभागार में ”राष्ट्र के निर्माण में संघ की भूमिका” विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने कहा कि सामाजिक मूल्यों पर जोर देते हुए भारत को विश्व के समक्ष एक मॉडल के रूप में पेश करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि वेदकाल से आ रही संस्कृति आज भारत में भी मौजूद है। यही कारण है कि यूरोप के लोग अपनी व्यक्तिवादी संस्कृति छोड़ कर भारत की कुटुम्ब आधारित संस्कृति अपना रहे हैं। भारत की इस संस्कृति से सीख लेकर पश्चिमी देश आगे आ रहे हैं।

उन्होंने देश के युवाओं का आव्हाहन करते हुए कहा कि हमारे देश के युवाओं के पास देश की तकदीर बदलने की ताकत है। बशर्ते अनुशासन, चिंतन और सामाजिक मूल्यों से भली-भांति वाकिफ हो। ऋषि-मुनियों के जमाने से जो संस्कृति और सभ्यता भारत को विश्व में पहचान दिलाए हुए है, उस पर युवाओं को काम करना होगा। इसे मॉडल के रूप में पेश कर विश्व के सामने लाना होगा।

उन्होंने आतंकवाद की जड़ को खत्म करने के लिए व्यक्तिवादी सोच को खत्म करनी होगी। खुद और परिवार की बजाए देश और दुनिया के संकट को अपना समझते हुए आगे आना होगा। इसका उदाहरण इस्लाम है, जिसे सिंध तक पहुंचाने में 300 साल लग गए। हमें स्वयं के लिए बल्कि समाज केंद्रित चिंतन पर जीना होगा। इस मौके पर देश की उन्नति में योगदान देने वाले संघ के प्रमुख कार्यक्रमों की जानकारी दी गई।

गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए एचएनबी चिकित्सा शिक्षा विवि के कुलपति प्रो. हेमचंद्र ने हंिदूू संस्कृति के वैज्ञानिक और धार्मिक पहलु पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में महानगर संघ चालक आजाद सिंह रावत, महानगर कार्यवाह विशाल जिंदल समेत अन्य मौजूद रहे।

Advertisements