प्रदेश के सरकारी स्कूलों के अवकाश का हुआ वार्षिक कैलेंडर जारी

0
389

प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब कम से कम 244 दिन होगा पठन पाठन 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

वार्षिक कैलेंडर के अनुसार ये होंगे सार्वजनिक अवकाश 

मकर संक्राति, गुरु गोविंद सिंह जयंती, गणतंत्र दिवस, वसंत पंचमी, रविदास जयंती, महाशिवरात्रि, होली, शब ए बारात, गुड फ्राईडे, वैशाखी, अंबेडकर जयंती, रामनवमी, महावीर जयंती, जमात उल विदा, ईद उल फितर, बुद्द पूर्णिमा, हरेला, ईद उल जुहा, स्वतंत्रता दिवस, मोहर्रम, रक्षाबंधन, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, विश्वकर्मा पूजा, अनंत चतुर्दशी, चेहल्लुम, गांधी जयंती, महानवमी, विजयदशमी, ईद उल मिलाद, वाल्मीकि जयंती, दीपावली, गुरुनानक जयंती, गुरु तेगबहादुर का शहीद दिवस और  क्रिसमस।

देहरादून : प्रदेश के शिक्षा विभाग ने शिक्षा सत्र 2021-22 में अवकाश को लेकर अपना वार्षिक कैलेंडर जारी कर दिया है। वार्षिक कैलेंडर के अनुसार सूबे के सरकारी स्कूलों में अब 48 दिन के ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन अवकाश होंगे।जबकि पर्वतीय क्षेत्र के स्कूलों में मैदानी क्षेत्रों के स्कूलों से चार दिन अधिक पढ़ाई होगी यानि पर्वतीय क्षेत्रों में जहां 244 दिन पढ़ाई होगी तो वहीं मैदानी क्षेत्र के स्कूलों में 240 दिन ही पढ़ाई होगी।

प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने वार्षिक कैलेंडर जारी करने के बाद बताया कि ग्रीष्मकालीन स्कूलों में 27 मई से 30 जून तक 35 दिन ग्रीष्मकालीन अवकाश होगा जबकि एक से 13 जनवरी तक 13 दिन का शीतकालीन अवकाश रहेगा। उन्होंने बताया कि शीतकालीन स्कूलों में 20 से 30 जून तक 11 दिन ग्रीष्मकालीन अवकाश तो 26 दिसंबर से 31 जनवरी तक 37 दिन का शीतकालीन अवकाश होगा।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में पांच हजार फीट या इससे कम ऊंचाई पर स्थित स्कूलों को ग्रीष्मकालीन स्कूलों की श्रेणी में रखा गया है। तो वहीं पांच हजार फीट से अधिक ऊंचाई पर स्थित स्कूलों को शीतकालीन स्कूलों की श्रेणी में रखा गया है। 

उनके अनुसार वार्षिक कैलेंडर के अनुसार अब शिक्षा सत्र के दौरान शीतकालीन स्कूलों में 244 दिन पढ़ाई होगी। जबकि ग्रीष्मकालीन स्कूल 240 दिन ही खुलेंगे। वहीं रविवार, शीतकालीन अवकाश और ग्रीष्मकालीन अवकाश के रूप में शीतकालीन स्कूल 73 दिन बंद रहेंगे। तो वहीं  ग्रीष्मकालीन स्कूलों में 77 दिन छुट्टी होगी।