jammu-kashmir : आधी रात तेजी से बदला घटनाक्रम, उमर-महबूबा नजरबंद; शिक्षण संस्थान बंद

0
197

कई शहरों में मोबाइल, इंटरनेट सेवा बंद

अधिकारियों को दिए गए सेटेलाइट फोन

जम्मू । Jammu and Kashmir में अनुच्छेद-370 और 35 ए पर छिड़ी चर्चाओं के बीच जम्मू-कश्मीर में रविवार को देर रात घटनाक्रम तेजी से बदल गया है । पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को उनके ही घरों में नजरबंद कर लिया गया। यहां के कई नेताओं को या तो हिरासत में ले लिया गया या फिर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। इंटरनेट सेवाओं को भी बंद करने के साथ ही श्रीनगर में धारा 144 लगा दी गई है।

घाटी के महत्वपूर्ण संस्थानों और संवेदनशील क्षेत्रों की चौकसी बढ़ा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात हैं। राज्य के सभी जिलों में तमाम शिक्षण संस्थान अगले आदेश तक बंद कर दिए गए हैं। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने तेजी से बदलते घटनाक्रम के बीच आपात बैठक बुलाई, जिसमें पुलिस और प्रशासन के बड़े अफसर शामिल हुए। इसमें राज्यपाल ने मुख्य सचिव को घटना पर नजर रखते हुए हर घंटे रिपोर्ट देने के लिए कहा है।

अफसरों को संपर्क के लिए सेटेलाइट फोन दिए गए हैं, क्योंकि मोबाइल सेवाएं बाधित होने की भी खबरें हैं। रविवार को ही श्रीनगर में कश्मीर के सियासी दलों की एक सर्वदलीय बैठक भी हुई, जिसमें अनुच्छेद 370 अथवा 35 ए में छेड़छाड़ को लेकर केंद्र सरकार को चेताया गया। उमर अब्दुल्ला और महबूबा ने दावा किया है कि उन्हें उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि किसी ने नहीं की, लेकिन समाचार एजेंसी प्रेट्र ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा है कि उमर और महबूबा को घर से न निकलने के लिए कहा गया है।

कांग्रेस नेता उस्मान माजिद और माकपा विधायक एमवाई तारीगामी ने दावा किया है कि उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। उमर के ट्वीट पर जवाब देते हुए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने लिखा कि आप अकेले नहीं हैं, संसद चल रही है। हर भारतीय आपके साथ खड़ा है।शाम तक शांत दिख रहे कश्मीर में देर रात अचानक प्रशासनिक गतिविधियां तेज हो गईं। दिनभर बैठकों का दौर चलता रहा और सुरक्षा बल पूरी वादी और जम्मू संभाग के सभी जिलों में हरकत में आ गए।

रद्द हुई कश्मीर विवि की परीक्षाएं
कश्मीर विश्वविद्यालय ने पांच अगस्त से 10 अगस्त तक सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं। यह फैसला कश्मीर विवि प्रशासन ने हालात को देखते हुए देर रात को लिया है। स्कूल-कॉलेज बंदकश्मीर के अलावा जम्मू संभाग के भी सभी जिलों में अगले आदेश तक स्कूल बंद कर दिए गए हैं। जिला उपायुक्त जम्मू सुषमा चौहान और ऊधमपुर के डीसी पीयूष सिंगल ने इसकी पुष्टि की। सोमवार को निजी और सरकारी स्कूल बंद रहेंगे। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार जम्मू जिले में सोमवार छह बजे से धारा 144 लागू हो जाएगी। हालात को देखते हुए कर्फ्यू भी लगाया जा सकता है।

 उमर ने कहा मुझे नजरबंद किया जा रहा है 

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने आशंका जताई कि उन्हें और मुख्य धारा के अन्य नेताओं को सरकार रात को घरों में नजरबंद किया जा रहा है। हालांकि उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि क्या होने वाला है लेकिन हमें शांत रहना होगा। मैंने अभी तक उम्मीद नहीं छोड़ी है। उन्होंने लिखा कि उन्हें नहीं जानकारी कि क्या होने वाला है लेकिन उन्हें विश्वास है कि अल्लाह ने जो भी सोचा होगा, सभी की भलाई के लिए ही होगा।

महबूबा ने कहा मुझे नजरबंद किया गया

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया कि मुझे घर में देर रात नजरबंद कर दिया गया है। इस ट्वीट से पूर्व उन्होंने लिखा कि इस मुश्किल घड़ी में क्या होगा, उन्हें जानकारी नहीं, लेकिन एक बात साफ है कि हम एकजुट हैं और मिलकर संघर्ष करेंगे। 

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर कहा कि कैसी विडंबना है कि हमारे जैसे शांति के लिए लड़ने वाले जनप्रतिनिधियों को हाउस अरेस्ट कर लिया गया है। दुनिया देख रही है कि जम्मू-कश्मीर में कैसे लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है। महबूबा ने कहा कि कश्मीर के लोगों ने एक लोकतांत्रिक भारत को चुना था, अब वही लोग अकल्पनीय अत्याचार सह रहे हैं।

महबूबा ने आगे कहा कि जिन लोगों ने हम पर अफवाह फैलाने का आरोप लगाया है, उन्हें पता है कि हमारा डर गलत नहीं है। नेताओं को नजरबंद किया गया है, इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है और जबर्दस्ती धारा 144 लगाई गई है। यह सामान्य नहीं है। जम्मू-कश्मीर के ऐसे हालात में महबूबा मुफ्ती ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया है। महबूबा ने ट्वीट कर कहा है कि भाजपा नेता होने के बावजूद वाजपेयीजी की कश्मीरियों के साथ सहानुभूति थी और इस तरह उन्होंने उनका (कश्मीरियों का) प्यार हासिल किया। उन्होंने कहा कि आज हम उनकी अनुपस्थिति सबसे ज्यादा महसूस कर रहे हैं।

जम्मू कश्मीर में स्कूल-कॉलेज बंद

कश्मीर के अलावा जम्मू संभाग के भी सभी जिलों में अगले आदेश तक स्कूल बंद कर दिए गए हैं। जिला उपायुक्त जम्मू सुषमा चौहान और ऊधमपुर के डीसी पीयूष सिंगल ने इसकी पुष्टि की। सोमवार को निजी और सरकारी स्कूल बंद रहेंगे।

प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार जम्मू जिले में सोमवार छह बजे से धारा 144 लागू हो जाएगी। हालात को देखते हुए कर्फ्यू भी लगाया जा सकता है।

 जम्मू संभाग में 40 कंपनियां तैनात
जम्मू संभाग में सुरक्षा बलों की अतिरिक्त 40 कंपनियां तैनात की गई हैं। उन्हें संवेदनशील क्षेत्रों में विशेष तौर पर सक्रिय रखा गया है। राजौरी व पुंछ में सुरक्षा बलों ने रविवार को फ्लैग मार्च किया।