चारों धाम बर्फ के आगोश में, कड़ाके की ठण्ड से पर्वतीय इलाकों में आमजन घरों में दुबके

0
345

औली के ढलानों में बर्फ देख खिले पर्यटकों और खेल प्रेमियों के चेहरे

गंगोत्री हाईवे पर ठप्प हुई वाहनों की आवाजाही

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : उत्तराखंड के चारों धामों को बर्फ ने अपने आगोश में ले लिया है। केदारनाथ में 24 घंटे से लगातार बर्फबारी हो रही है। यहां करीब ढाई फीट बर्फ जम चुकी है। अधिकतम तापमान माइनस 5 और न्यूनतम माइनस 9 डिग्री सेल्सियस रहा। मंदिर परिसर समेत समूची केदारपुरी में ढाई फीट से अधिक बर्फ जम चुकी है, जबकि वासुकीताल, चौराबाड़ी ताल, दुग्ध गंगा की पहाड़ियां, भैरव मंदिर और गरूड़चट्टी के ऊपरी तरफ तीन से चार फीट तक बर्फ जम चुकी है। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि केदारनाथ में लगभग दो सौ लोग मौजूद हैं, जिनके लिए राशन, सब्जी व अन्य जरूरी सामग्री का पर्याप्त कोटा उपलब्ध है।

गंगोत्री व यमुनोत्री धाम समेत उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बुधवार को जमकर बर्फबारी हुई। निचली घाटियों में भी दिनभर रुक-रुक कर रिमझिम बारिश का दौर जारी रहा। जिससे तापमान में भारी गिरावट आने के साथ ही कड़ाके की ठंड भी पड़ रही है। वहीं औली में बर्फबारी होने के साथ ही यहां पर्यटकों के पहुंचने का सिलसिला भी शुरू हो गया है।

बुधवार को औली पहुंचे पर्यटकों ने बर्फबारी का जमकर लुत्फ उठाया। औली में बर्फबारी से स्थानीय व्यापारियों के चेहरे भी खिल उठे हैं। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े संतोष कुंवर का कहना है कि औली की बर्फबारी पर्यटकों को आकर्षित करेगी, जिससे स्थानीय व्यवसायियों को भी लाभ होगा। स्कीइंग से जुड़े खिलाड़ियों में भी उत्साह है। इस बार नवंबर में बर्फबारी होने से उम्मीद जगी है कि आने वाले दिनों में यहां पर्यटकों की आमद तेजी से बढ़ेगी।

भारी बर्फबारी के चलते गंगोत्री हाईवे पर भैरोंघाटी से आगे वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है। प्रशासन ने मौसम के रुख को देखते हुए संबंधित विभागों को अलर्ट रहने के निर्देश जारी किए हैं। यहां बीआरओ के जवान बर्फ हटाकर यातायात बहाली के प्रयास में जुटे हुए हैं।

बीते दो दिनों से उत्तरकाशी जिले के विभिन्न हिस्सों में हो रही बारिश और बर्फबारी में बुधवार सुबह से तेजी आ गई। चिन्यालीसौड़, बड़कोट, नौगांव, पुरोला आदि निचली घाटियों में रुक-रुक कर रिमझिम बारिश होने से तापमान में जबर्दस्त गिरावट आ गई है। जबकि समुद्र सतह से ढाई हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हो रही है।
खरसाली में सीजन का पहला हिमपात

यमुनोत्री के शीतकालीन पुजारी आशुतोष उनियाल ने बताया कि बुधवार तड़के खरसाली गांव सहित आसपास के क्षेत्रों में सीजन का पहला हिमपात हुआ है। जबकि यमुनोत्री धाम क्षेत्र में लगातार बर्फबारी के चलते यहां आधा फिट से अधिक बर्फ की चादर बिछ गई है।

मुखबा स्थित गंगा मंदिर के पुजारी सुधांशु सेमवाल ने बताया कि गंगोत्री धाम के साथ ही मुखबा, हर्षिल, बगोरी, सुक्की आदि गांवों में मंगलवार देर रात से ही बर्फबारी हो रही है। जिसके साथ ही तापमान शून्य से नीचे पहुंचने के कारण हाड़ कंपाने वाली ठंड पड़ रही है।

मौसम के मिजाज को देखते हुए डीएम डॉ.आशीष चौहान ने संबंधित विभागों को बर्फबारी से प्रभावित गांवों में दूरसंचार, विद्युत, पेयजल, यातायात आदि व्यवस्थाओं को सुचारू रखने के निर्देश दिए हैं।

साथ ही ऊंचाई वाले क्षेत्रों में एसडीआरएफ के जवानों को तैनात करने के भी आदेश दिए हैं। ताकि आपात स्थितियों से निपटने के साथ ही स्थानीय ग्रामीणों को जरूरी सहायता प्रदान की जा सके।