एम्स में रक्तदान करने पहुंचा डोईवाला क्षेत्र का युवक कोरोना संक्रमित मिला

0
208

रक्तदान करने आए युवक का कोविड सैंपल जांच में पॉजिटिव पाया गया

एम्स की दो नर्सिंग आफिसर की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में  24 घंटे में छह लोगों की रिपोर्ट कोविड पाॅजिटिव आई है। इनमें संस्थान के दो नर्सिंग ऑफिसर भी शामिल हैं। जबकि दो लोग स्थानीय और अन्य दो उत्तर प्रदेश के निवासी हैं। वहीं, डोईवाला क्षेत्र का एक युवक किसी को रक्तदान करने एम्स पहुंचा, जब उसका सैंपल लेकर जांच की गई तो उसे कोरोना संक्रमित पाया गया।  
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि संस्थान में की गई सैंपलिंग में छह लोग कोविड पॉजिटिव पाए गए। एम्स के कोविड आइसोलेशन वार्ड में कार्यरत 22 वर्षीय युवती बुखार की शिकायत पर 20 जून को कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी में जांच के लिए आई थी। सैंपल के बाद उनको होम आइसोलेशन में भर्ती किया गया। 20 जून को इनका पहला सैंपल नेगेटिव आया था, जबकि 26 जून को लिया गया दूसरा सैंपल सोमवार देरशाम पॉजिटिव पाया गया। उनको एम्स कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है। 
वहीं एम्स की एक अन्य 26 वर्षीया नर्सिंग ऑफिसर का बीती 26 जून को ओपीडी में कोविड सैंपल लिया गया था, जो कि पॉजिटिव पाया गया है। पेशेंट एसिम्टमेटिक हैं, यानी उनमें रोग के लक्षण नहीं पाए गए। उनको एम्स के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है।
तीसरा मामला चांदपुर बिजनौर, उत्तर प्रदेश निवासी 41 वर्षीय व्यक्ति का है, जो 26 जून को एम्स कोविड स्क्रीनिंग ओपीडी में पीलिया की जांच के लिए आए थे। इनका कोविड सैंपल पॉजिटिव पाया गया। वहीं सहारनपुर निवासी 47 वर्षीय व्यक्ति 27 जून को एम्स ओपीडी में जांच के लिए आए थे,जिनका सैंपल भी कोविड-19 पॉजिटिव आया है।
ऋषिकेश निवासी दस वर्षीय किशोर को 25 जून को एम्स ओपीडी में बुखार की शिकायत के साथ लाया गया था। उसका कोविड सैंपल पॉजिटिव पाया गया। वहीं, रेशम माजरी ग्रांट, डोईवाला निवासी 35 वर्षीय युवक, जो कि एम्स में भर्ती मरीज के अटेंडेंट हैं और 26ं जून को एम्स में किसी रोगी को रक्तदान के लिए एम्स ब्लड बैंक में आए थे। इनका कोविड सैंपल पॉजिटिव मिला। स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को संबंधित व्यक्ति को नजदीकी कोविड केयर सेंटर (सीसीसी) में भर्ती कराने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि अन्य सभी मामलों के बाबत संस्थान की ओर से स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।