टिहरी झील के चारों ओर बनेगी रिंग रोड़ 

34.6 किलोमीटर लंबी डबल लेन रिंग रोड, खर्च होंगे 335 करोड़

42 वर्ग किमी क्षेत्र में 234.6 किमी लम्बी डबल लेन रिंग रोड 

भूमि अधिग्रहण और वन भूमि हस्तांतरण की कार्रवाही के निर्देश

रिंग रोड पर व्यू पॉइंट और पर्यटन सुविधाओं का होगा विकास

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : पर्यटन के विकास के मद्देनज़र और झील के चारों तरफ और आसपास बसे गांवों और कस्बों को आवागमन की सुविधा उपलब्ध करनेके उद्देश्य से प्रदेश सरकार ने टिहरी झील के चारों ओर रिंग रोड बनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। एशिया की सबसे बड़ी इस झील का अभी तक पर्यटन के उद्देश्य से कोई ख़ासा लाभ प्रदेश को नहीं मिल पा रहा था जिसमें संपर्क मार्ग की कमी आड़े आ रही है इसी योजना के तहत अब 42 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैली झील के किनारे 335 करोड़ की लागत से 234.6 किलोमीटर लंबा डबल लेन रिंग रोड बनाये जाने की सरकार की  योजना है।

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में सचिवालय में टिहरी जलाशय को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने और स्थानीय लोगों के आवागमन की परेशानी को देखते हुए उन्होंने अफसरों के साथ बैठक कर तत्काल भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही तथा वन भूमि हस्तांतरण एवं अन्य कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। 

सचिवालय में आयोजित बैठक में पर्यटन सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने बताया कि मुख्यमंत्री घोषणाओं की समीक्षा में पर्यटन विभाग को टिहरी झील के चारों ओर रिंग रोड का निर्माण कराने के निर्देश प्राप्त हुए है। रिंग रोड न होने से पर्यटन विकास के लिए आवश्यक मूलभूत ढांचागत सुविधाओं का विकास नहीं हो पा रहा है।

उन्होंने बताया कि चारधाम यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्री और झील के किनारे के स्थानीय लोग भी रिंग रोड का उपयोग कर सकेंगे। श्री जावलकर ने बताया कि प्रस्तावित रिंग रोड में विभिन्न स्थानों पर सुविधाएं विकसित करने के लिए एशियन विकास बैंक के विषय विशेषज्ञों की सहायता ली जा रही है। उन्होंने बताया इस रिंग रोड पर जगह -जगह पर व्यू पॉइंट और पर्यटन सुविधाओं का विकास किया जाना प्रस्तावित है। 

एडीबी से वित्त पोषित किए जाने का प्रस्ताव है। लोक निर्माण विभाग के प्रमुख अभियंता हरिओम शर्मा ने बताया कि प्रस्तावित रिंग रोड की कुल लंबाई 234.60 किमी है। जिसका 142.20 किमी भाग सिंगल लेन, 38,40 किमी 1.5 लेन निर्मित है। 18 किमी की लंबाई में सिंगल लेन निर्माणाधीन है तथा 16 किमी लंबाई में सिंगल लेन का निर्माण किया जाना है।

इसके साथ ही रोड का 20 किमी भाग चारधाम सड़क मार्ग के अंतर्गत निर्माणाधीन है। प्रस्तावित मार्ग में 4 सेतुओं का निर्माण भी किया जाएगा। प्रस्तावित कार्य के प्रथम चरण की लागत 8.81 करोड़ रुपये तथा द्वितीय चरण में 326.14 करोड़ रुपये का आगणन तैयार किया गया है। बैठक में अपर सचिव सोनिका, अनु सचिव दिनेश कुमार पुनेठा आदि अधिकारी मौजूद रहे।

Advertisements

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.