पार्टी के दिल्ली में मिली जीत के बाद हौसले हैं बुलंद

उत्तराखंड के 20 लाख लोग हो चुके हैं ”आप” के सदस्य 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून: दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद आम आदमी पार्टी की नज़र उत्तराखंड की तरफ हो गयी है।  भाजपा और कांग्रेस के मुख्या राजनीतिक दल होने और कोई तीसरा विकल्प जनता के पास नहीं होने का वह लाभ लेना चाहती है।

पार्टी के प्रदेश प्रभारी राकेश सिन्हा ने मंगलवार को देहरादून में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि दिल्ली में मिली जीत के बाद अब ”आप” उत्तराखंड विधन सभा चुनाव में पूरी 70 सीटों पर चुनाव लड़ने पर विचार कर रही है। दिल्ली की तर्ज पर उत्तराखंड में भी पार्टी बिजली, पानी और शिक्षा को मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ेगी। इस दौरान आम आदमी पार्टी ने आम लोगों को जोड़ने के लिए नंबर भी लॉन्च किया।

उत्तराखंड प्रभारी राकेश सिन्हा ने कहा कि पार्टी उत्तराखंड में भी अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारेगी। आम आदमी पार्टी को दिल्ली विधानसभा चुनाव में दूसरी बार प्रचंड बहुमत मिलने पर पूरे देश में एक अलग तरह की राजनीति की शुरुआत हुई है। यह नई राजनीति राष्ट्र निर्माण और अच्छे काम के आधार पर जनमत प्राप्त करने की राजनीति है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के लोगों को अगले विधानसभा चुनाव में दिल्ली के राष्ट्र निर्माण के मॉडल को लागू करने के लिए आम आदमी पार्टी की सरकार बनाने की आवश्यकता है। वहीं आम आदमी पार्टी ने टोलफ्री नंबर जारी किया है। जिसपर राज्य के लोग मिस्ड कॉल करके आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। पार्टी के मुताबिक दिए हुए नंबर पर करीब 20 लाख लोग जुड़ चुके हैं। जबकि, आम आदमी पार्टी ने उत्तराखंड में 10 लाख लोगों को जोड़ने का लक्ष्य रखा है। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर, महामंत्री विशाल चौधरी, राजेश बहुगुणा, राकेश काला, सारिक अफरोज समेत अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।