लॉकडाउन 4.0ः नेपाल से बनबसा होते हुए वापस आएंगे लगभग 600 भारतीय

0
301

देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर से एक-एक ट्रेन बिहार के लिए चलाने की अनुमति मांगी गई

25 मई से सात फ्लाइट देहरादून एयरपोर्ट तक चलनी शुरू हो जाएंगी, इनमें एक तिहाई सीटों पर ही यात्रा का प्रावधान 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून। उत्तराखंड वाापस आने के लिए अभी तक देशभऱ से 2.45 लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है, जिनमें से डेढ़ लाख लोग बसोें, ट्रेनों तथा अन्य प्राइवेट वाहनों से उत्तराखंड वापस आ चुके हैं। नेपाल में फंसे 600 भारतीय नागरिकों को 29 व 30 मई को उत्तराखंड के बनबसा होते हुए भारत वापस लाया जाएगा, इनमें 25 लोग उत्तराखंड के निवासी हैं। वहीं
राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की सीईओ रिद्धिम अग्रवाल ने राज्य सचिवालय में प्रेस ब्रीफिंग में बताया कि देशभर से उत्तराखंड आने के लिए विदेश में फंसे राज्य के 200 लोग दिल्ली आ चुके हैं। इनमें से तीन लोग क्वारान्टाइन की अवधि पूरी करके उत्तराखंड आ गए हैं। 197 लोग दिल्ली में ही इंस्टीट्यूशनल क्वारान्टाइन हैं। 
उन्होंने बताया कि डेढ़ लाख से अधिक लोगों को बसों, ट्रेनों व निजी वाहनों से वापस लाया गया है। अब तक दिल्ली से 55 हजार, यूपी और हरियाणा 24-24 हजार, पंजाब और चंडीगढ़ से नौ- नौ हजार तथा अन्य राज्यों से भी लोगों को लाया गया है। एक जिले से दूसरे जिले में अब तक 1.10 लाख लोग आवागमन कर चुके हैं।
देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर से एक-एक ट्रेन बिहार के लिए चलाने की अनुमति मांगी गई है। इस संबंध में वार्ता चल रही है। जैसे ही अनुमति प्राप्त हो जाती है, ट्रेन का मूवमेंट शुरू हो जाएगा। 
राज्य से बाहर जाने के लिए अब तक 47 हजार लोग पंजीकरण करा चुके हैं, जिनमें से राज्य सरकार के प्रयासों से अब तक लगभग 40,200 लोगों को उनके राज्यों में भेजा गया है। सबसे ज्यादा 17 हजार लोगों को यूपी और 10 हजार लोगों को बिहार भेजा गया है। इनके अलावा  जम्मू व दिल्ली ढाई-ढाई हजार लोग चले गए हैं।  
उन्होंने बताया कि 25 मई से सात फ्लाइट देहरादून एयरपोर्ट तक चलनी शुरू हो जाएंगी। इनमें एक तिहाई सीटों पर ही यात्रा का प्रावधान किया गया है। एयरपोर्ट तक जाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था कर रहे हैं तो केवल एयर टिकट ही पर्याप्त नहीं होगा। आपकी गाड़ी का परमिट लेना होगा। एयरपोर्ट से चलने वाली गाड़ियों, जिन पर एयरपोर्ट का स्टीकर लगा होता है, उनको जिला प्रशासन से अनुमति मिल जाएगी। इन गाड़ियों की सेवाएं ली जा सकती हैं।