पराजित 18 प्रत्याशियों ने दायर की हैं अलग-अलग याचिकाएं

अधिकांश याचिकाएं पुनर्मतगणना को लेकर

पंचायत चुनाव में पराजित सपना ने विजयी प्रत्याशी की कक्षा आठ की मार्कशीट को बताया फर्जी

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

नैनीताल : राज्य के 12 जिलों में अभी कुछ ही दिन पूर्व संपन्न त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मतगणना के बाद घोषित परिणामों में पराजित घोषित हुए 18 प्रत्याशी हाई कोर्ट पहुंच गए हैं। कोर्ट ने इनकी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए विपक्षियों से 25 नवंबर तक जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए हैं।

वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ में मामलों की हुई। पराजित 18 प्रत्याशियों ने अलग-अलग याचिकाएं दायर की हैं। अधिकांश याचिकाएं पुनर्मतगणना को लेकर हैं। जबकि कुछ याचिकाएं जीते हुए प्रत्याशियों द्वारा चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों का अनुपालन नहीं करने से संबंधित हैं।

सितारगंज ब्लॉक प्रमुख पद पर पराजित उमा त्रिपाठी ने ब्लॉक प्रमुख पद पर निर्वाचित कमलजीत कौर पर सरकारी नौकरी में होते हुए चुनाव लड़ने का आरोप लगाया है। सितारगंज में ही पंचायत चुनाव में पराजित सपना ने विजयी प्रत्याशी की कक्षा आठ की मार्कशीट फर्जी बताई है।

धारचूला ब्लॉक के ग्राम जुम्मा से प्रधान का चुनाव हारे दिनेश राम व इंदर राम का आरोप है कि उनके पक्ष में दिए गए 195 मत अवैध घोषित कर दिए गए।

टिहरी गढ़वाल के कटखेत से बीडीसी का चुनाव पराजित पार्वती देवी का कहना है कि वह 37 वोट से चुनाव जीत गई थी मगर दोबारा मतगणना हुई तो 367 वोटों से पराजित दिखा दिया गया।

Advertisements